शीतलहार होने पर छोटे बच्चे बुजुर्ग एवं गर्भवती महिलाओं को घर के अंदर ही रखें - DRS NEWS24 LIVE

Breaking

Post Top Ad

शीतलहार होने पर छोटे बच्चे बुजुर्ग एवं गर्भवती महिलाओं को घर के अंदर ही रखें

#DRS NEWS 24Live
गाजीपुर: रिपोर्ट मोहम्मद कादिर:अपर जिलाधिकारी ने  जनपदवासियों से अपील किया है कि  शीतलहर एव घने कोहरे से बचाव हेतु अत्यधिक ठण्ड शीतलहर होने पर छोटे बच्चों बुजुर्गा एवं गर्भवती महिलाओं को घर के अन्दर ही रखें। अति आवश्यक हो तभी घर से बाहर जाये स्थानीय रेडियों दैनिक समाचार पत्र टी०वी० मोबाईल फोन एवं वाटसअप के माध्यम से मौसम की जानकारी प्राप्त करते रहें। स्वयं सर्तक करें और अन्य व्यक्तियों को भी सर्तक करें। शरीर को सूखा रखें गीले कपड़े कदापि न पहने यह शरीर के लिए नुकसानदायक हो सकता है गीले कपड़े से ठण्ड लगने की प्रबल सम्भावना बनी रहती है मिटटी का तेलं कोयले की अंगीठी हीटर इत्यादि का प्रयोग करते समय सावधानियाँ बरते कमरे में शुद्ध हवा का आवागमन बेन्टिलेशन वायु संचार बनाये रखें ताकि कमरे में विषाक्त जहरीला धुआं इकट्ठा न हो सोने से पहले हीटर ब्लॉवर कोयले की अगीठी आदि को अवश्य बंद कर दें कई स्तरों वाल गर्म कपड़े जैसे ऊनी कपड़े स्वेटर टोपी मफलर इत्यादि का प्रयोग आपको शीतदंश ठण्ड के प्रभाव से बचा सकता है।शरीर में ऊष्मा के प्रवाह को बनाये रखने के लिए पोषक आहार एवं गर्म पेय पदार्थाे
का नियमित सेवन किया जाना लाभकारी होगा हाइपोथर्मिया के लक्षणों जैसे असामान्य शरीर का तापमान भ्रम या स्मृति हानि बेहोशी विचलन असीमित ठिठुरना सुस्ती थकान तुतलाना थकावट इत्यादि की स्थिति उत्पन्न होने पर अपने नजदीकी सामुदायिक एवं प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्रों पर सम्पर्क करें। शीतदंश ठण्ड के लक्षणों जैसे- शरीर के अंगो का सुन्न पडना हाथों पैरों की उँगलियों कान नाक आदि पर सफेद या पीले रंग के दाग उभर आने पर अपने नजदीकी चिकित्सक से परामर्श के बाद ही दवाइओ का प्रयोग करें अपने आस-पास अकेले रहने वाले पड़ोत्तियों की जानकारी रखें विशेषकर बुजुर्गों व्यक्तियो का पूर्ण विवरण एवं मोबाईल नम्बर अवश्य रखे किसी भी आपात कालीन स्थिति से निपटने के लिए एक आपातकालीन डायरी बनाये जिसमें पुलिस चिकित्सा अग्निशमन एवं अन्य महत्त्वपूर्ण विभागों के नम्बर दर्ज रखें और इसकी जानकारी परिवार के प्रत्येक सदस्यों को होनी चाहिए बाहर निकलते समय सिर चेहरे हाथ एवं पैर को गर्म कपड़े से ढके,  शीतलहर में गाड़ियों में फॉग लाईट का इस्तेमाल करें ठंड के मौसम में पशुओं को थनैला मिल्क फीवर नेमोटाइटिस आदि रोग होने का खतरा रहता है इसलिए पशुओं को समय-समय पर चिकित्सक को दिखाते रहें पशुओं को रात में खुले पेड़ के नीचे अथवा घर से बाहर ना निकालें पशुओं को ठंड के समय में गुड़ व कैल्शियम टॉनिक पिलाएं पशुओं को ठंड के मौसम में जूट की बोरी अथवा घर में पड़ा पुराना कंबल उढाएं।
डीआरएस न्यूज़ नेटवर्क

No comments:

Post a Comment